CIPET kya hai

Spread the love

सिपेट भारत सरकार की तरफ से चलाया जाने वाला एक टेक्निकल इंस्टिट्यूट है जिसका मकसद प्लास्टिक के फील्ड में टेक्निकल नॉलेज देना है

सिपेट की स्थापना 70 के दशक में भारत सरकार द्वारा प्लास्टिक के बढ़ते यूज को देखते हुए किया गया

जैसा कि आप देख सकते हैं हर दिन प्लास्टिक का यूज़ बढ़ता ही जा रहा है हर जगह प्लास्टिक का यूज़ होता है

यह संस्था भारत सरकार के मिनिस्ट्री ऑफ केमिकल और फर्टिलाइजर्स के अंदर आता है

 

सिपेट केवल प्लास्टिक से जुड़ा टेक्निकल नॉलेज देने के लिए भारत सरकार के द्वारा चलाए जाने वाला एक टेक्निकल इंस्टिट्यूट है

इसमें आपको प्लास्टिक से जुड़े अलग-अलग पहलुओं पर ज्ञान दिया जाता है

प्लास्टिक के बारे में आपको सारी जानकारी दी जाती है जैसे कि प्लास्टिक की एटॉमिक संरचना क्या होती है, प्लास्टिक को कैसे बेहतर बनाया जा सकता है, प्लास्टिक को कैसे इनफॉर्मेंट फ्रेंडली बनाया जा सकता है

आपको सिपेट में प्लास्टिक से जुड़े टॉपिक्स पर इस ढंग से पढ़ाया जाता है ताकि आप प्लास्टिक से रिलेटेड कोई भी जॉब किसी भी कंपनी में कर सकें या फिर अपना खुद का भी बिजनेस शुरू कर सकें

अभी सी पेट के कुल 32 ब्रांच इंडिया में चल रहे हैं और सिपेट का हेड ऑफिस चेन्नई गिडी में है

सिपेट के अंदर बहुत सारे कोर्स चलते हैं जिनको अगर हम कैटिगरी वाइज डिवाइड करें तो निम्न कैटेगरी में बांट सकते हैं-

  • स्किल डेवेलोपमेंट
  • डिप्लोमा इन प्लास्टिक 
  • प्लास्टिक इंजीनियरिंग
  • ऍम टेक इन प्लास्टिक 

स्किल डेवलपमेंट के तहत आठवीं पास स्टूडेंट्स को प्लास्टिक से जुड़ा बेसिक स्किल्स सी खिलाया जाता है जैसे कि अलग-अलग तरह के मशीन पर काम करना

यह कोर्स बहुत सारे लोगों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो रहा है इस कोर्स को करने के बाद लोगों को बहुत सारे टेक्निकल पोजीशन में काम करने का मौका मिल जाता है

डिप्लोमा इन प्लास्टिक इंजीनियरिंग कोर्स कोई भी स्टूडेंट दसवीं पास करने के बाद या 12वीं पास करने के बाद भी कर सकता है इस टेक्निकल कोर्स के अंतर्गत प्लास्टिक से जुड़ा बेसिक मगर जरूरी सारे सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं

इस कोर्स को करने के बाद प्लास्टिक के फील्ड में जूनियर इंजीनियर के जो भी पोस्ट होते हैं उसके लिए स्टूडेंट एलिजिबल हो जाते हैं

प्लास्टिक इंजीनियरिंग कोर्स प्लास्टिक के फील्ड में किया जाने वाला इंजीनियरिंग कोर्स है इसके तहत अलग-अलग तरह के स्पेशलाइजेशन भी होते हैं

Leave a Reply

Close Menu